« | Home | »

एनपीआर : कब खत्म होगा इंतजार

Comments Off on एनपीआर : कब खत्म होगा इंतजार   |   February 17, 2014    04:56pm   |Contributed by manoja

द्वारका और दिल्ली- जयपुर एक्सप्रेस- वे को खेड़की दौला के पास जोड़ेगा
सिटी के अंदर वाहनों का प्रेशर काफी कम हो जाएगा, जाम भी नहीं लगेगा
अंक के लिए
131 करोड़ का है प्रोजेक्ट
18 किमी है कुल लंबाई
14 किमी में 95 प्रतिशत काम पूरा

4 किलोमीटर पर कोर्ट से स्टे, काम रुका
कोट
अविवादित हिस्से पर सड़क निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। बाकी के हिस्से पर कोर्ट से कोई फैसला आने के बाद काम होगा। अब ड्रेन व वॉटर टैंक बनाने का कार्य चल रहा है। यह कार्य काफी तेजी से पूरा कराया जा रहा है। ताकि कोर्ट से फैसला आने के बाद बाकी के कार्य तुरंत पूरे किए जा सके।
बलराज, जेई, एनपीआर प्रोजेक्ट
इंट्रो
नॉर्दर्न पेरिफेरल रोड (एनपीआर) चालू होने में अभी वक्त लगेगा। रोड बनाने का काम बंद है, लेकिन दूसरे काम चल रहे हैं। इस रोड के निर्माण में हमेशा रोड़े अटकते रहे। इसी वजह से इसकी डेडलाइन लगातार बढ़ती रही। लोगों को इसके चालू होने का इंतजार है, लेकिन कुछ मामले कोर्ट में चल रहे हैं। रोड की अड़चनों और मौके की हालत बता रहे हैं सोनू यादव और अजय गौतम

ड्रेन निर्माण और वॉटर टैंक बनाने का कार्य तेजी से : 14 किमी के हिस्से में सड़क के किनारे ही ड्रेन बनाई जा रही है। बरसात के पानी की निकासी के लिए ड्रेन बन रही है। यहां वॉटर टैंक भी बनाया जा रहा है। सड़क पर जमा पानी सड़क किनारे बने वॉटर टैंक में गिरेगा। इससे टैंक में जमा पानी ड्रेन में जाएगा।
बन चुके हिस्से का प्रयोग करते हैं वाहन चालक : 14 किलोमीटर के हिस्से में भी कई जगह कलवर्ट बनने बाकी हैं। इसके बावजूद लोगों के लिए पहले की अपेक्षा सुविधा हो गई है। न्यू पालम विहार के लोग एनपीआर से होते हुए दौलताबाद गांव पार कर बसई पहुंच सकते हैं। यहां से आगे खेड़की दौला की ओर भी जाया जा सकता है। यह हिस्सा अभी बीच में अधूरा ही है। न्यू पालम विहार से आगे आने पर दौलताबाद तक दो स्थानों पर सड़क नहीं बनी है। दौलताबाद से आगे बसई की ओर जाते समय भी एक स्थान पर करीब 80 मीटर का हिस्सा बाकी है।

दिल्ली के नजफगढ़ से मानेसर जाने वालों को आसानी : दिल्ली के नजफगढ़ एरिया से मानेसर या जयपुर की ओर जाने वाले लोगों को काफी आसानी हो गई है। एनपीआर से होकर ये लोग गुजर सकते हैं। नजफगढ़ – छावला से होते हुए गुड़गांव में एंट्री कर ये लोग बजघेड़ा पहुंचते हैं। बजघेड़ा फाटक से पहले ही न्यू पालम विहार होते हुए ये एनपीआर पर पहुंच सकते हैं। यहां से दौलताबाद गांव होते हुए बसई पहुंचा जा सकता है। बसई से करीब 4 किलोमीटर की दूरी पर हीरो होंडा चौक है। बसई से ही फर्रुखनगर या पटौदी की ओर भी जा सकते हैं।

रेलवे ओवर ब्रिज का टेंडर जारी : बसई रेलवे लाइन के ऊपर से एनपीआर का रेलवे ओवर ब्रिज बनना है। इसके लिए 60 करोड़ का टेंडर हूडा ने जारी कर दिया है। ब्रिज बनाने के लिए कंपनी को 18 महीने का समय दिया गया है।
नई और सातवीं डेडलाइन 30 जून 2014 : एनपीआर की छठी डेडलाइन 31 दिसंबर 2013 पार होने के बाद अब नई डेडलाइन तय की गई है। नई डेडलाइन 30 जून 2014 तय की गई है। यह एनपीआर प्रोजेक्ट की सातवीं डेडलाइन होगी। हूडा चीफ ऐडमिनिस्ट्रेटर से इस नई डेडलाइन की स्पेशल अप्रूवल ली गई है। एनपीआर की साइड में 48 बिल्डरों को हाउसिंग व कमर्शल प्रोजेक्ट डिवेलप करने को लेकर लाइसेंस जारी हैं। प्रोजैक्ट में देरी के चलते अधिकतर बिल्डरों के प्रोजैक्ट अधर में लटके पड़े हैं।

http://navbharattimes.indiatimes.com/delhi/gurgaon/—/articleshow/30355648.cms

News Published Under:   Gurgaon | Comments Off on एनपीआर : कब खत्म होगा इंतजार